RSS की नाराजगी BJP पर पड़ न जाए भारी, इंद्रेश कुमार ने इशारे में बता दिया अंजाम, पढ़ें कितना नफा कितना नुकसान

जयपुर: लोकसभा चुनाव 2024 के परिणाम के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी भारतीय जनता पार्टी पर लगातार निशाना साध रहे हैं। पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत ने मणिपुर हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा था। अब कार्यवाहक सरसंघचालक इंद्रेश कुम

4 1 21
Read Time5 Minute, 17 Second

जयपुर: लोकसभा चुनाव 2024 के परिणाम के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी भारतीय जनता पार्टी पर लगातार निशाना साध रहे हैं। पहले संघ प्रमुख मोहन भागवत ने मणिपुर हिंसा को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा था। अब कार्यवाहक सरसंघचालक इंद्रेश कुमार ने भी भाजपा का नाम लिए बगैर करारा तंज कसा है। संघ के पदाधिकारियों के बयानों से लाखों लोग यह सोच रहे हैं कि संघ हमेशा से भाजपा का समर्थक रहा है। अब अचानक ऐसा क्या हो गया कि बीजेपी के खिलाफ बयान दिए जा रहे हैं। दरअसल यह सब अचानक नहीं हुआ है। संघ और बीजेपी के बीच 6 महीने पहले से ही दूरियां बढ़नी शुरू हो गई थी। लोकसभा चुनाव के दौरान ये दूरियां और ज्यादा बढ़ गई। इसी कारण संघ की ओर से बीजेपी पर एक के बाद एक तंज कसे जा रहे हैं।

rss leader indresh kumar

इंद्रेश कुमार।


RSS नेता इंद्रेश कुमार का बयान बीजेपी पर सीधा तंज, कहा रामजी ने अहंकार करने वालों को रोका, पढ़ें जयपुर में क्या क्या कहा?

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह से दूरियां बढ़ना शुरू


22 जनवरी 2024 को अयोध्या में श्रीराम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हुई थी। इस प्राण प्रतिष्ठा समारोह को बीजेपी ने बड़े उत्सव के रूप में मनाया। भले ही भगवान श्रीराम करोड़ों लोगों की आस्था के केंद्र हैं लेकिन राम मंदिर का काम पूरा होने से पहले प्राण प्रतिष्ठा समारोह होने पर शंकराचार्यों ने एतराज जताया था। शंकराचार्यों का यह भी कहना था कि चुनावी फायदे के लिए बीजेपी मंदिर का निर्माण कार्य पूरा होने से पहले ही प्राण प्रतिष्ठा करा रही है। यह उचित नहीं है। वरिष्ठ पत्रकार और राजनैतिक विश्लेषक मिथिलेश जैमिनी का कहना है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी शंकराचार्यों की बात से सहमत थे लेकिन प्राण प्रतिष्ठा समारोह को लेकर संघ कुछ नहीं कर सका। बीजेपी और संघ के बीच की दूरियां तभी से शुरू हो गई थी।

जिस पार्टी ने भक्ति की, अहंकार आया, उस पार्टी को 241 पर रोक दिया, पर सबसे बड़ी बना दिया। जिनकी राम के प्रति आस्था नहीं थी, अश्रद्धा थी। उन सबको मिलकर 234 पर रोक दिया।
इंद्रेश कुमार, आरएसएस नेता


4 दिन पहले मोहन भागवत ने भी दी थी नसीहत


चार दिन पहले यानी सोमवार 10 जून को नागपुर में आरएसएस चीफ मोहन भागवत ने नागपुर में संघ के कार्यकर्ता विकास वर्ग के समापन में ऐसी ही नसीहत दी थी। यहां वो चुनाव, राजनीति और राजनीतिक दलों के रवैये पर खुलकर बोले। उन्होंने कहा जो मर्यादा का पालन करते हुए कार्य करता है, गर्व करता है, किन्तु लिप्त नहीं होता, अहंकार नहीं करता, वही सही अर्थों मे सेवक कहलाने का अधिकारी है। भागवत ने आगे कहा जब चुनाव होता है तो मुकाबला जरूरी होता है। दूसरों को पीछे धकेलना भी होता है, लेकिन इसकी एक सीमा होती है। यह मुकाबला झूठ पर आधारित नहीं होना चाहिए।

जो मर्यादा का पालन करते हुए कार्य करता है, गर्व करता है, किन्तु लिप्त नहीं होता, अहंकार नहीं करता, वही सही अर्थों मे सेवक कहलाने का अधिकारी है।
मोहन भागवत, आरएसएस चीफ



जेपी नड्‌डा काे वो बयान, जिसमें दिखा RSS से अलगाव


लोकसभा चुनाव के चौथे चरा की वोटिंग के बाद बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा का एक बयान आया था। उन्होंने कहा, 'शुरुआत में हम कम सक्षम थे। तब हमें RSS की जरूरत पड़ती थी। अब हम सक्षम हैं। आज BJP खुद अपने आप को चलाती है।' इस बयान में बीजेपी और आरएसएस के बीच जो खींचतान चल रही थी, उसकी झलक साफ दिखी।
खत्म होंगे गहलोत राज में बनाए गए 17 जिले और 3 संभाग! भजनलाल सरकार ने बनाई 5 मंत्रियों की कमेटी, पढ़ें अब क्या होगा?

सबको साथ लेकर चलना चाहता है संघ


जैमिनी का कहना है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हिंदूवादी संगठन है जो सभी हिंदुओं को साथ लेकर चलना चाहता है। संघ हमेशा धर्म गुरुओं और शंकराचार्यों के फैसलों से पक्ष में खड़ा रहा है। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अयोध्या में हुए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में धर्म गुरुओं और शंकराचार्यों की अनुमति नहीं ली गई। कुछ शंकराचार्यों ने तो कई टीवी चैनल को खुलकर बयान दिए थे कि राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा समारोह मुहूर्त के हिसाब से ना होकर राजनैतिक फायदे के हिसाब से हो रहा है। कई हिंदू संगठन भी शंकराचार्यों के फैसलों को मानते हैं लेकिन अयोध्या में हुए राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शंकराचार्यों की बात नहीं सुनी गई थी। यही वजह है कि संघ भी बीजेपी की मनमानी से नाराज हो गया।

टिकट वितरण में संघ को विश्वास में नहीं लेना भी बड़ी वजह


लोकसभा चुनाव 2024 के दौरान भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने अपनी मनमर्जी से टिकट वितरण किया। भले ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी आरएसएस हमेशा से भाजपा का खुलकर पक्षधर रहा लेकिन इस बार टिकट वितरण में संघ की अनुमति नहीं ली गई। वरिष्ठ पत्रकार मिथिलेश जैमिनी का कहना है कि जिन नेताओं को संघ टिकट दिलाना चाहता था, पार्टी ने उन नेताओं को टिकट ही नहीं दिया। संघ के पदाधिकारी बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की मनमानी से खुश नहीं है।

आगामी विधानसभा चुनाव और पंचायत राज चुनाव पर पड़ेगा असर


लोकसभा चुनाव में बीजेपी का '400 पार' वाला सपना पूरा नहीं हो सका। राजस्थान में भी 'मिशन 25' अधूरा रहा। राजनीतिक विश्लेषकों को की माने तो लोकसभा चुनाव के नतीजों से बीजेपी सीख न लेती है और आरएसएस से संबंध नहीं सुधरते हैं तो आगे भी खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। इसी साल राजस्थान में निकाय चुनाव हैं। बिहार, झारखंड और महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव भी बीजेपी के लिए चुनौती पूर्ण साबित हो सकते हैं।

\\\"स्वर्णिम
+91 120 4319808|9470846577

स्वर्णिम भारत न्यूज़ हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं.

मनोज शर्मा

मनोज शर्मा (जन्म 1968) स्वर्णिम भारत के संस्थापक-प्रकाशक , प्रधान संपादक और मेन्टम सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Laptops | Up to 40% off

अगली खबर

SSC CHSL 2024: टीयर-1 एग्जाम की आंसर-की जारी, 23 जुलाई तक दर्ज करें आपत्ति

आपके पसंद का न्यूज

Subscribe US Now